Sunday, October 22, 2017

दीपावली की मध्य रात्रि तीन मोटर सायकिल जलाने वाला, पुलिस थाना बाणगंगा की गिरफ्त में


इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-थाना बाणगंगा क्षैत्र मे दीपावली की मध्य रात्रि किसी अज्ञात बदमाश ने फरियादी के घर के बाहर खड़ी तीन मोटर सायकिलो मे आग लगा दी थी, जिसपर से फरियादी नामदेव पिता मारुतीराव निवासी भगत सिह नगर की सूचना पर अपराध क्र. 946 /2017 धारा 435 भादवि का अपराध पंजीबद्ध किया गया।
उक्त घटना के आरोपी को शीघ्र पकड़ने संबधी निर्देश वरिष्ठ अधिकारियो व्दारा दिये गये। जिस पर थाना प्रभारी बाणगंगा तारेश कुमार सोनी द्वारा आरोपी की पतारसी कर उनकी शीघ्र गिरफ्तारीएक टीम का गठन किया गया। टीम व्दारा थाना बाणगंगा के क्षेत्र के गुण्डो, बदमाशो व संदिग्धो आदि से पूछताछ की गयी। इस दौरान टीम को पता चला कि फरियादी के घर के पास मे रहने वाले मुकेश उर्फ यशवंत पिता चन्दुलाल चौहान 38 साल निवासी 62, भगत सिह नगर इन्दौर से कुछ दिन पूर्व फरियादी का विवाद हुआ था। इस बात को ध्यान में रखते हुए, टीम द्वारा शंका के आधार पर मुकेश उर्फ यशवंत पूछताछ की गई तो, पहले तो वहा गुमराह करता रहा परन्तु हिकमतअमली से पूछताछ करने परबताया कि मेरी इण्डिका कार मे मेरे पडोसी नामदेव पिता मारुतीराव व्दारा स्क्रेच मार दिये थे जिसपर से हम दोनो मे विवाद हुआ था, उसी बात का बदला लेने के लिये मेने दीपावली की रात मे नामदेव की मोटर सायकिलो मे आग लगाई थी। आरोपी को उक्त अपराध मे गिरफ्तार किया जाकर प्रतिबन्धात्मक कार्यवाही की गयी है।

उक्त कार्यवाही में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी बाणगंगा श्री तारेश कुमार सोनी व उनकी टीम के उनि खूमसिह सोलंकी, राजकुमार भदौरिया व आर. नागेन्द्र की सराहनीय भूमिका रही।


इंदौर शहर में मोबाईल छीनने की कई वारदातों को अंजाम देने वाला, शातिर बदमाश विक्की व उसका साथी सोनू क्राईम ब्रांच की गिरफ्त में आरोपी के पास से 07 मोबाईल व एक मोटर साईकल बरामद


इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-उप पुलिस महानिरीक्षक  इंदौर शहर श्री हरिनारायणाचारी मिश्र द्वारा इंदौर शहर में घटित होनें वाले विविध अपराधों व आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने व इनमे संलिप्त अपराधियों की पतारसी करउनकी धरपकड़ हेतु कड़ी व प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये है। जिस पर पुलिस अधीक्षक मुखयालय इंदौर मो. युसुफ कुरैशी के मार्गदर्शन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (क्राइम ब्रांच) श्री अमरेन्द्र सिहं चौहान द्वारा क्राइम ब्रांच की टीमों को ऐसे अपराधियों गतिविधियों पर कड़ी नजर रख, उनकी धरपकड़ के  लिए योजनाबद्ध तरीके कार्यवाही करने हेतु लगाया गया।
इसी तारतम्य में क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम को मुखबीर के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि परदेशीपुरा निवासी विक्की अपने पास चोरी के मोबाईल फोन रखे हुए है। उक्त सूचना पर तत्काल क्राईम ब्रांच टीम ने संदेही विक्की की प्रत्येक गतिविधि पर लगातार नजर रखी, इस दौरान संदेही की गतिविधि संधिग्ध नजर आने पर क्राईम ब्रांच टीम ने संदेही विक्रांत उर्फ विक्की झां पिता विपिन झां  उम्र 18 साल नि. 13/1 परदेशीपुरा इंदौर को अभिरक्षा में बारीकी से पूछताछ की तो संदेही विक्की ने शहर के कई थाना क्षेत्रों लसुडिया, विजय नगर, एमआईजी, परदेशीपुरा, हीरानगर व पलासिया में  मोबाईल छीनने की वारदाते करना कबूल की। टीम द्वारा आरोपी के कब्जे से छीने गये 7 मोबाईल फोन व मोटर साईकल क्रं. एमपी-09/एनजेड-6369 भीबरामद किये। आरोपी द्वारा पुलिस पूछताछ में बताये घटना स्थल व बरामद किये मोबाईल फोन के आधार पर पंजीबद्ध अपराधों की जानकारी निकाली गई तो ज्ञात हुआ कि, थाना लसुडिया में अप क्र. 737/17  व थाना विजय नगर पर अप. क्र 680/17 पंजीबद्ध हो चुके है तथा अन्य अपराधों के संबंध में जानकारी निकाली जा रही है।
पुलिस टीम द्वारा पूछताछ करने पर आरोपी विक्की ने बताया कि वह शराब के नशे व लडकीबाजी की लत के कारण, ये वारदाते करता था। ये सभी वारदाते विक्की ने अपने साथी सोनू के साथ मिलकर की है, जो एक आटोचालक है। दोनों की कई सालों से अच्छी दोस्ती है, वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों पैसों का बराबर बराबर हिस्सा आपस में बाटं लेते थे। अन्य आरोपी की भूमिका मालूम होने पर क्राईम ब्रांच इंदौर ने सोनू पिता शिवराम रावत उम्र 20 साल नि. 65 बी संजय नगर अनुप टाकीज के पास इंदौर  को भी धरदबौचा। क्राइब ब्रांच की टीम द्वारा दोनों आरोपियों को मय बरामद सामान के, अग्रिम वैधानिक कार्यवाही हेतु पुलिस थाना लसुडिया के सुपुर्द किया गया है।

आरोपी विक्रांत उर्फ विक्की झां मूल रुप से बिहार का रहने वाला है, जिसके पिता विपिन झांराजस्थान, मलेशिया, व कई अन्य जगहों पर नौकरी करने के बाद 10 सालों से इंदौर में रह रहै ह,ै जो वर्तमान में पोरवाल ट्रेडर्स कपडे की दूकान पर काम कर रहै है जिन्हे 10 हजार रुपये महीने की तनखवाह मिलती है। आरोपी विक्की उसके परिवार का इकलौता पुत्र है, लेकिन अपने खर्चे पूरे न होने के कारण, अपनी रोजमर्रा की जरुरतों व नशे आदि की आदतों को पूरा करने के लिए, करता था ये  वारदातें। 
आरोपी विक्की पूर्व में भी कई आपराधिक गतिविधियों में लिप्त रहा है। सन्‌  2016 में थाना पढरीनाथ में आरोपी से 22 मोबाईल फोन जप्त किये गये थे, इसी थाने पर आरोपी 25 आर्म्‌स एक्ट व आबकारी अधिनियम के अन्तर्गत अपराध पंजीबद्ध हुए है। सन्‌ 2016 में ही आरोपी विक्की धारा 327, 294, 506 भादवि अन्तर्गत लडाई झगडे व मारपीट के प्रकरण में थाना परदेशीपूरा बंद रह चुका है। आरोपी व उसके साथियों के खिलाफ थाना हीरानगर में धारा 401 भादवि का अपराध पंजीबद्ध हुआ था।

आरोपी विक्की व उसके साथी को पुलिस रिमाण्ड पर लिया जाकर पूछताछ की जावेगी, जिसमें और कई वारदातों का खुलासा व छीने गये मोबाईल फोन की बरामदगी होने की संभावना है।आरोपी विक्की के साथ सोनू के अलावा अन्य कौन-कौन इनके साथ में संलिप्त था, पूछताछ की जा रही हैं, भूमिका होने पर उनके विरूद्ध भी विधि अनुरुप कड़ी कार्यवाही की जावेगी।



इन्दौर पुलिस द्वारा अपराधियों एवं असमाजिक तत्वों की धरपकड़ अभियान के तहत की गई कार्यवाही 67 अपराधी एवं असमाजिक तत्व इन्दौर पुलिस की गिरफत्‌ में


इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017 - पुलिस उप महानिरीक्षक इंदौर शहर इंदौर श्री हरिनारायणाचारी मिश्र के निर्देश के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक इंदौर (पूर्व) अवधेश कुमार गोस्वामी के मार्गदर्शन में कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को फरार एवं स्थायी वारंटियो तथा अपराधियों व असमाजिक तत्वों के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए कुल 37 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जिसके अंतर्गत-
               
09 आदतन व 13 संदिग्ध बदमाश गिरफ्तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-इन्दौर पुलिस पूर्व क्षेत्र द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को शहर में अपराध करने की नीयत से घूमने वाले संदिग्ध बदमाशों तथा ऐसे आदतन अपराधी जो अपराध के बल पर ही अपनी आजिविका चलाते है, के विरूद्ध विभिन्न थाना क्षैत्रान्तर्गत में वैधानिक कार्यवाही करते हुए 09 आदतन व 13 संदिग्ध बदमाशों को गिरफ्तार किया जाकर धारा 110,151 जा.फौ. के तहत प्रतिबन्धात्मक कार्यवाही की गई।

01 गिरफ्तारी एवं 22 जमानती वारण्ट तामील
इन्दौर- दिनांक 22 अक्टूबर 2017-इन्दौरपुलिस पूर्व क्षेत्र द्वारा शहर में विभिन्न थाना क्षेत्रान्तर्गत में कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 01 गिरफ्तारी एवं 22 जमानती वारन्ट तामील किये गये। पुलिस द्वारा अपने-अपने थाना क्षेत्रों में, न्यायालयों द्वारा विभिन्न प्रकरणो में जारी बदमाशों, अपराधियों एवं असमाजिक तत्वों के वारन्ट तामिल कराकर, वैधानिक कार्यवाही की गयी।

जुऑ खेलते हुए मिलें, 14 आरोपी गिरफ्‌तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना बाणगंगा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 18.40 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर शिवदयाल का भट्‌टा मेंन रोड़ इन्दौर से ताश पत्तों के द्वारा हार जीत का जुआं खेलतें हुए मिलें, सुनील पिता रणजीत रघुवंशी, मुन्ना पिता जगन्नाथ बौरासी, बाबुलाल पिता रामचंदर कौशल, हुकुमचंद पिता ओमप्रकाश जायसवाल, ओमप्रकाश पिता सत्यनारायण प्रजापति, रंजीत पिता अशोक यादव, शिवपाल पिता बंसतीलाल, सुरेश पिता रमेशचंद्र, महेश पिता डोडुराम तवंर, रामस्वरूप पिता सुरज प्रसाद को पकडा गया। पुलिस द्वारा इनके कब्जे से 87000 रूपयें नगदी व ताश पत्ते बरामद किये गये।
                पुलिस थाना परदेशीपुरा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 17.00 बजें,मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर पुराना सुभाष नगर आटा चक्की के सामनें रिक्शा के पीछें इन्दौर से ताश पत्तों के द्वारा हार जीत का जुआं खेलतें हुए मिलें, रवि पिता सखराम वैद्य, गजेंद्र पिता नारायण सिंह ठाकुर, सोनु पिता कैलाशचंद सिलोरिया, मोहन पिता राजेश पारस को पकडा गया। पुलिस द्वारा इनके कब्जे से 1230 रूपयें नगदी व ताश पत्ते बरामद किये गये।
                                पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके विरूद्ध जुऑ एक्ट के तहत्‌ प्रकरण पंजीबद्व कर कार्यवाही की गयी है।

अवैध शराब सहित 01 आरोपी गिरफ्तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना बाणगंगा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 21.05 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर वृंदावन कालोनी बगीचें के पास इन्दौर से अवैध शराब ले जाते/बेचते हुये मिलें, 27 वृदांवन कालोनी इन्दौर निवासी विक्की उर्फ छोटु पिता देशराज कौशल को पकडा गया। पुलिस द्वारा इसके कब्जे से 1000 रूपयें कीमत की 20 क्वाटर अवैध शराब जप्त की गयी।
पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके विरूद्ध आबकारी एक्ट के तहत्‌ प्रकरण पंजीबद्व कर कार्यवाही की गयी है।

इन्दौर- दिनांक 22 अक्टूबर 2017- पुलिस उपमहानिरीक्षक इंदौर शहर इंदौर श्री हरिनारायणाचारी मिश्र के निर्देश के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक इंदौर (पश्चिम) श्री विवेक सिंह के मार्गदर्शन में कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को फरार एवं स्थायी वारंटियो तथा अपराधियों व असमाजिक तत्वों के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए कुल 30 आरोपियों को गिरफ्‌तार किया गया जिसके अंतर्गत-

06 आदतन व 12 संदिग्ध बदमाश गिरफ्तार
इन्दौर- दिनांक 22 अक्टूबर  2017-इन्दौर पुलिस पश्चिम क्षेत्र द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को शहर में अपराध करने की नीयत से घूमने वाले संदिग्ध बदमाशों तथा ऐसे आदतन अपराधी जो अपराध के बल पर ही अपनी आजिविका चलाते है, के विरूद्ध विभिन्न थाना क्षैत्रान्तर्गत में वैधानिक कार्यवाही करते हुए 06 आदतन व 12 संदिग्ध बदमाशों को गिरफ्तार किया जाकर धारा 110, 151 जा.फौ. के तहत प्रतिबन्धात्मक कार्यवाही की गई।

02 गिरफ्तारी तथा 22 जमानती वारण्ट तामील
इन्दौर- दिनांक 22 अक्टूबर 2017-इन्दौर पुलिस पश्चिम क्षेत्र द्वारा शहर में विभिन्न थाना क्षेत्रान्तर्गत में कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 का 02 गिरफ्तारी तथा 22 जमानती वारन्ट तामील किये गये। पुलिस द्वारा अपने-अपने थाना क्षेत्रो में, न्यायालयों द्वाराविभिन्न प्रकरणो में जारी बदमाशों, अपराधियों एवं असमाजिक तत्वों के वारन्ट तामिल कराकर, वैधानिक कार्यवाही की गयी।

जुऑ खेलते हुए मिलें, 06 आरोपी गिरफ्‌तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना हातोद द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 14.45 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर भैरूबाबा चबुतरे के पास ग्राम बदरखां इन्दौर से ताश पत्तों के द्वारा हार जीत का जुआं खेलतें हुए मिलें, सजंय पिता गेंदालाल, गुलाब पिता दयाराम, नगजीराम पिता मांगीलाल, बनेंसिह पिता खेमाजी को पकडा गया। पुलिस द्वारा इनके कब्जे से 700 रूपयें नगदी व ताश पत्ते बरामद किये गये।
                पुलिस थाना सिमरोल द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 17.00 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर मिडिल स्कुल के पीछें मैदान में दतोदा इन्दौर से ताश पत्तों के द्वारा हार जीत का जुआं खेलतें हुए मिलें, राजेंश पिता भैरूजी कुमावत, बाबू पिता लक्ष्मीनारायण गौंड़, अर्जुन पिता राधेश्याम बीना को पकडा गया। पुलिस द्वारा इनके कब्जे से 2500 रूपयें नगदी व ताश पत्ते बरामद किये गये।
                                पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके विरूद्ध जुऑ एक्ट के तहत्‌ प्रकरण पंजीबद्व करकार्यवाही की गयी है।

अवैध शराब सहित 02 आरोपी गिरफ्तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना बेटमा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 19.00 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर ग्राम अटावदा पुलिया के पास बेटमा से अवैध शराब ले जाते/बेचते हुये मिलें, अटावदा बेटमा इन्दौर निवासी अर्जुन पिता लालसिंह यादव को पकडा गया। पुलिस द्वारा इसके कब्जे से 1080 रूपयें कीमत की 18 क्वाटर अवैध शराब जप्त की गयी।
पुलिस थाना क्षिप्रा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टूबर 2017 को 18.50 बजें, मुखबिर से मिलीं सूचना के आधार पर ग्राम बरलई जागीर चौराहा आम रोड इन्दौर से अवैध शराब ले जाते/बेचते हुये मिलें, ग्राम बरलई जागीर इन्दौर निवासी सुरेश पिता शकंरलाल को पकडा गया। पुलिस द्वारा इसके कब्जे से अवैध शराब जप्त की गयी।
पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके विरूद्ध आबकारी एक्ट के तहत्‌ प्रकरण पंजीबद्व कर कार्यवाही की गयी है।

अवैध हथियार सहित 02 आरोपी गिरफ्तार
इन्दौर-दिनांक 22 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना भवंरकुआं द्वारा कल दिनांक 21 अक्टुबर 2017 को 14.45 बजें, मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर माता मंदिर के पास पिपलियापालातालाब इन्दौर से अवैध हथियार लेकर घूमते हुये मिलें, 35 अम्बिकापुरी कालोंनी इंदौर निवासी जयेश पिता स्व. श्री सुनील रेखी को पकडा गया। पुलिस द्वारा इसके कब्जे से एक तलवार जप्त किया गया।
पुलिस थाना बेटमा द्वारा कल दिनांक 21 अक्टुबर 2017 को 18.00 बजें, मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर अंबेडकर चौराहा बेटमा इन्दौर से अवैध हथियार लेकर घूमते हुये मिलें, रावद टप्पा तहसील बेटमा इंदौर निवासी धर्मेंदं्र पिता भीमसिंह सोलंकी को पकडा गया। पुलिस द्वारा इसके कब्जे से एक छुरा जप्त किया गया।
पुलिस द्वारा आरोपी को गिरफ्तार कर इसके विरूद्व आर्म्स एक्ट के तहत्‌ प्रकरण पंजीबद्व कर कार्यवाही की गयी है।






Saturday, October 21, 2017

पुलिस थाना लसूड़िया द्वारा, अंधे कत्ल का 6 घण्टें में पर्दाफाश, आरोपी ने अपने भाई के साथ मिलकर, पत्नी से संबंधों की वजह से दिया घटना को अंजाम


इन्दौर-दिनांक 21 अक्टूबर 2017-पुलिस थाना लसूड़िया पर दिनांक 2021.10.17 की दरम्यानी रात्रि करीबन 01.49 बजे फरियादी अर्जुन पिता राकेश पवार उम्र 28 साल निवासी दुर्गा मंदिर के पास बिज्जूखेड़ी ने उपस्थित होकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि, उसका भाई लोकेश उम्र 24 साल मोबाईल शाप पर काम करने रोजाना की तरह गया था जो अभी तक वापस नही आया हैं। फरियादी की रिपोर्ट पर गुम इँसान क्र 151/17 कामय कर तत्काल गांव वालों के साथ-साथ एफआरवी तथा पुलिस टीम ने आस-पास तलाशा, तो लोकेश की मोटर सायकिल बिज्जूखेड़ी के रास्ते में ही खड़ी मिली जिसमें चाबी लगी हुई थी। रात्रि में लोकेश का कोई पता नहीं चल सका। इसी दौरान प्रातः 08.00 बजे के करीब डायल-100 पर सूचना मिली कि लोकेश की लाश सरजू बाई पति रामाश्रय के खेत के कोने में बागड़ के पास झाड़यों में पड़ी है।
        सूचना मिलते ही थाना प्रभारी लसूडिया टीम के साथ मौके पर पंहुचे तथा एफएसएल अधिकारी एवं वरिष्ठ अधिकारियों कोतत्काल सूचित किया। जिस पर पुलिस अधीक्षक पूर्व श्री अवधेश गोस्वामी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूर्वी जोन-2 श्री मनोज राय, नगर पुलिस अधीक्षक विजय नगर श्री जयंत राठौर तथा एफएसएल अधिकारी डॉ. बी.एल. मण्डलोई भी अपनी टीम के साथ मौके पर पंहुचे। घटनास्थल व शव के निरीक्षण से स्पष्ठ हुआ कि, किसी अज्ञात व्यक्ति ने मृतक की गला दबाकर हत्या की है।
       घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस उप महानिरीक्षक इंदौर श्री हरिनारायणाचारी मिश्र द्वारा पुलिस अधीक्षक पूर्व को अज्ञात आरोपी की तत्काल पतारसी करने के निर्देश दिये गये। जिसपर पुलिस अधीक्षक द्वारा मौके पर स्वंय पूछताछ करने के साथ-साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री मनोज राय एवं नपुअ श्री जयतं राठौर के मार्गदशन में, थाना प्रभारी लसूडिया के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर, आरोपी की पतारसी हेतु योजनाबद्ध तरीके से लगाया गया।
नगर पुलिस अधीक्षक विजय नगर तथा थाना प्रभारी लसुडिया द्वारा मौके पर ही लगातार पूछताछ विभिन्न साक्षियों से करने पर ज्ञात हुआ कि मृतक लोकेश के नजदीकी संबंध ग्राम बिज्जूखेड़ी निवासी अखलेश पिता बाबूलाल सोनगरा की पत्नी किरण से थे। लोकेश लगातार चोरी छुपे किरण से मिलताथा इसकी जानकारी किरण के पति अखलेश को थी। अखलेश ने कुछ माह पूर्व मृतक लोकेश को अपनी पत्नी के साथ रंगे हाथ पकड़ा भी था और लोकेश के साथ अखलेश ने मारपीट एवं विवाद भी किया था, लेकिन इसके बावजूद भी मृतक लोकेश यदाकदा किरण से मिलता रहता था ।
उपरोक्त जानकारी के आधार पर ग्राम बिज्जूखेड़ी में ही पुलिस पार्टी ने विभिन्न लोगो से पूछताछ की और कड़ी से कड़ी जोड़ी तथा इसी आधार पर किरण के पति प्रमुख संदेही अखलेश पिता बाबूलाल सोनगरा से सखती से पूछताछ की जिसने थोड़ी देर पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया लेकिन कुछ मिनटो में ही अखलेश टूट गया और उसने बताया कि, मृतक लोकेश के संबंध उसकी पत्नी किरण से थे । लोकेश को समझाने के बावजूद भी उसने किरण से मिलना नहीं छोड़ा था जिसके कारण वह बहुत परेशान था कल रात्रि उसने लोकेश का पता किया जो पता चला कि लोकेश अभी घऱ नहीं लौटा है, तो उसने अपने छोटे भाई प्रदीप पिता बाबूलाल सोनगरा को सूचना देकर ग्राम बिज्जूखेड़ी के रास्ते पर बुला लिया जंहा थोड़ी देर में ही मृतक लोकेश मोटर सायकिल से आता दिखा जिसे अखलेश ने रोका तथा किरण से मिलनेकी बात को लेकर लोकेश से विवाद होने लगा इसी दौरान अखलेश ने लोकेश को 4-5 चांटे मारे और तथा अपनी कलाई व भुजा के मध्य लोकेश की गर्दन को दबा लिया तथा इस दौरान अखलेश के भाई प्रदीप ने लोकेश की टांगे पकड़ ली, अखलेश ने लगातार लोकेश का गला दबाया जिससे लोकेश की मृत्यु हो गई। दोनो भाईयों ने मिलकर लोकेश की लाश को वहीं झाडियों में पटक दिया और अपने घऱ चले गये।
रात्रि में जब पुलिस ने गुम इंसान कायम किया और लोकेश की तलाश गांव में कर रही थी तब गांव वालो के साथ मुखय आरोपी अखलेश भी लोकेश की तलाश कर रहा था, तथा प्रातः जब लोकेश का शव बरामद हुआ तब पुलिस कार्यवाही में पंचान तलब किये गये उनमें अखलेश का भाई आरोपी प्रदीप भी एक पंच की हैसियत से मौजूद था, इस प्रकार दोनो भाईयों ने किसी को शक न हो इसका पूरा प्रयास किया और बजाय भागने के समस्त कार्यवाही में भी उपस्थित रहे, लेकिन पुलिस द्वारा प्राप्त जानकारियों से ज्ञात घटनाक्रम तथा पूछताछ के आगे दोनो आरोपी ज्यादा देर नहीं टिक से एवं अपना अपराध कबूल कर लिया ।
पुलिस ने आरोपी अखलेश के मैमोरेंडम के आधार पर बिज्जूखेड़ी के नाले से मृतक लोकेश कीएक जोड़ीसेंण्डल तथा आरोपी प्रदीप के मैमोरेंड़म के आधार पर मृतक लोकेश का एच टी सी कम्पनी का मोबाईल नाले के दूसरी तरफ से बरामद कर लिया । इस प्रकार मृतक के अंतिम संस्कार के पूर्व ही पुलिस द्वारा तत्परता से अंधेकत्ल का पर्दाफाश मात्र 06 घण्टे में किया गया।

उक्त त्वरित कार्यवाही कर अंधेकत्ल का पर्दाफाश करने में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी लसूड़िया श्री राजेन्द्र सोनी, उनि रमेश चौहान, उनि दीपक शर्मा, उनि अनीता सिंह, सउनि राकेश चौहान, सउनि अनिल सिलावट प्रआर 2814 मुनीश पाण्डये, प्रआर 2367 अवधेश चतुर्वेदी, प्रआर 147 गोविन्द, आर 2903 शैलेन्द्र मीणा, आर 2984 केदार, आर 1337 राजेन्द्र , आर 846 धीरेन्द्र, आर 1211 संजय खानआर. चालक 3262 जयदीप की महत्वपूर्ण एवं सराहनीय भूमिका रही। उक्त सराहनीय कार्य करने वाली टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा की गयी है।